What is SEO in Hindi ?

SEO in Hindi

What is SEO in Hindi?

” SEO याने की Search Engine Optimization एक तकनीक है जिसकी मदद से हम अपने वेबसाइट को Search Engine Result Page (SERP) में पहले स्थान पर ला सकते है। ”

आज इंटरनेटपे करोड़ों websites है लेकिन जब हम Google पे कुछ खोजते है तो सिर्फ कुछ ही websites पहले पृष्ठ पे दिखाई देती है ऐसा क्यों होता है?

हजारों लोग एकही keyword के ऊपर article लिखते है फिरभी कुछही articles क्यों rank होते है?

क्यों Google इन्हीं articles को 1st page पर rank कराता हैं ? 

इसका जवाब है SEO मतलब Search Engine Optimization.

इंटरनेट पर हम जब कुछ search करते हैं तो हमारे सामने जो results आते है उसमें ज्यादातर लोग पहले या दूसरे result पे click करते है। मतलब अगर आपको organic traffic चाहिए तो आपका ब्लॉग SERP में पहले स्थान पर आना अनिवार्य है। SEO के बिनाये मुमकिन नहीं है।

आप paid searches का इस्तेमाल करके पहले स्थान पर आ सकते है लेकिन ये ज्यादा समय तक आप नहीं कर सकते क्यूंकि इसमें आपका बहुत पैसा खर्चा होगा। Search engine का काम एक algorithm के ऊपर चलता है। ये algorithm पूरी तरह समझना लगभग ना के बराबर है। हालांकि इसे कुछ हदतक समझ सकते है। ये algorithm हमेशा update होता रहता है इसलिए कोई ब्लॉग हमेशा पहले स्थानपर rank नहीं कर सकता। अगर आप इस algorithm को संतुष्ट करते है तो आपकी वेबसाइट search engine में जरूर rank होगी। SEO ऐसीही तकनीक है जो इस algorithm को संतुष्ट करती है।

SEO के प्रकार कौन कौन से है ?

वैसे तो SEO कई सारे प्रकार है जैसे की,

On-Page SEO 

Off-page SEO

Technical SEO

Local SEO

White hat SEO 

Black hat SEO

Grey hat SEO

लेकिन यहाँ पे ज्यादातर ध्यान on-page SEO, off-page SEO और Technical SEO के ऊपर ही दिया जाता है। इनके बारे में थोड़ा और जानने की कोशिश करते है।

On page SEO 

On page SEO in Hindi


ये SEO का सबसे महत्वपूर्ण प्रकार है। यहाँपे ज्यादा ध्यान website की उस भाग के ऊपर दिया जाता है जो visitors को दीखता है। मतलब जब कोई visitor वेबसाइटपे visit करता है तो उसे वेबसाइटपे जो कुछ दिखाई देता है जैसे की images, text, charts, videos इ. ये सब on page SEO का हिस्सा है। On page SEO में कुछ ऐसे factors हैं जिनपे हम ध्यान देते है तो हमारी वेबसाइट अच्छी तरहसे प्रदर्शन कर सकती है।  


1. Content 


आपवे बसाइट पर जो भी लिख रहे है उसे content बोला जाता है। किसी भी वेबसाइटके सफल होने के पीछे उस वेबसाइट के content का हाथ होता है। SEO में content factor हमेशासे ऊपरही रहा है। आप कितना भी अच्छा SEO कीजिये, अगर आपका content लोगोंको अच्छा नहीं लगेगा तो आप कभी rank नहीं कर सकते। इसीलिए आप अगर blogging में सफल होना चाहते है तो आपको content के ऊपर ज्यादा ध्यान देना पड़ेगा।  


2. Keyword 

Keyword का मतलब होता है कोई भी शब्द जिसके ऊपर आप article लिखते है। ये keywords एक शब्द हो सकता है या ८-९ शब्द एक साथ। अगर आपके keyword में ३ से ज्यादा शब्द होते हैं तो उसे long tail keyword कहा जाता है। कोई भी article लिखनेसे पहले keyword research करना बहुत जरुरी है। अगर आप किसी ऐसे keyword के ऊपर article लिखते है जिसे कोई search ही ना करता हो तो आप कभी रैंक नहीं कर पाओगे ।    


3. URL 

URL कामतलब है Uniform Resource Locator. URL आपके website का address होता है। आपके website का main address छोड़ के बाकि जो address  होता है उनपे भी आप ध्यान दीजिये। Address जितना छोटा रख सकते है उसे रख दीजिये। वेबसाइट के address को देखके visitors को पता चलना चाहिए की ये address किस पोस्टके बारें में है।  


4. Meta description  


ये एक प्रकार का वर्णन होता है जो हमें search engine result page में दिखाई देता है। आपके website address के निचे आपको ये दिखाई देगा। ये वर्णन उस पोस्ट के बारे में होता है। इस वर्णन से हम अंदाजा लगा सकता है की पूरी पोस्ट किस topic के बारें में है।  


5. Alt Text  


Alt text मतलब alternative text. ये images के बारेंमें है। दरअसल जब network weak होने के कारन किसी वेबसाइटकी images load नहीं हो पाती, तो वहाँ पे हमें कुछ text दिखाई देता है,ये वही alt text होता है। Image upload करते समय हम ये वर्णन दे सकते है। Alt text से search engine crawlers भी इमेज को पढ़ सकते है।  


6. Page speed


Page speed का मतलब होता है कोई वेबसाइट खुलने में लगने वाला समय। अग रआपकी वेबसाइट खुलनेमें ज्यादा समय लगता है तो visitor आपके वेबसाइट को बंद करके दूसरी वेबसाइटपर चले जाते है। इसिलए आपको page speed पे भी ध्यान देना पड़ेगा। 


7. Headings


Post लिखते समय हम text को उसके महत्त्वके हिसाबसे बड़ी या छोटी size में लिखते है, इस size को headings बोलते है। H1 से लेकर H6 तक ये headings होते है। H1 heading में text की size सबसे बड़ी होती है और H6 में सबसे कम होती है। Post का title हमेशा H1 में लिखा जाता है। बाकि subheading H२ याफिर H३ में होता है। अच्छा headings देनेसे search engine crawlers को आपकीpost पढ़ना आसान हो जाता है।  

Off page SEO 

 Off page SEO in Hindi

Off page SEO एक तकनीक है जहाँपे वेबसाइट की ranking बढ़ानेपर ध्यान दिया जाता है। जहाँ पेon page SEO में वेबसाइट के दिखनेवाले हिस्से को सुधारा जाता है वही off page SEO में उस हिस्सेको सुधारा जाता है जो visitors को दीखता नहीं। यहाँपे बहुत सारे factors है जिनको हमें समझना जरुरी होता है।.

1. Backlink 


Backlink एक link होती है जो दूसरी वेबसाइट आपकी की वेबसाइट को reference की तौर पर देती है। आसान भाषा में येएक लिंक होती है जो दो वेबसाइट को एक दुसरेसे जोड़ती है। सिर्फ off page का ही नहीं बल्कि पुरे SEO तकनीक का सबसे बड़ा factor है। Search engine backlink को एक विश्वासकी नजरसे देखता है। जितनी ज्यादा backlink, उतना ज्यादा विश्वास। Backlink बनाने के बहुत सारे तरीके है जैसे की,

Comment – दूसरे ब्लॉगपे जा केवहां comment करके आप बैकलिंक बना सकते है। 

Guest posting -आपके blog topic के संबधित और किसी वेबसाइटपे guest posting कर सकते है। 

Forum – Blog topic के संबधित forum में हिस्सा ले के आप वहाँ से backlink ले सकते है।  


2. Search Engine Submission


 इसका मतलब होता है आपकी website search engine में submit करना। ऐसा करने से आपकी वेबसाइट search engine में जल्दीसे index होती है। Google के साथ साथ आप Yahoo, Bing जैसे search engine में भी submit कर सकते है।  


3. Social bookmarking  


आज दुनिया में सबसे ज्यादा traffic social media पे ही रहता है। इस traffic का इस्तेमाल कर के हम अपने वेबसाइटपे traffic ला सकतेहै। Facebook, Twitter, Instagram, L inkedin जैसे बड़े बड़े platform पे आपके वेबसाइट का account जरूर बनाये।  


4. Directory submission  


पुरानेज़माने में जैसी directory होती थी वैसेही वेबसाइट की भी directory होती है जहाँ पे हम वेबसाइट submit कर सकते है।

Technical SEO

Technical SEO in Hindi

Technical SEO एक ऐसी तकनीक है जिसमें search engine के crawlers का काम आसान किया जाताहै ताकि crawlers हमारी वेबसाइट आसानी से पढ़ सके और जल्दीसे index कर सके। हमारी वेबसाइटपे बहुत सारे ऐसे factors होते हैं जिसके कारण search engine को आपकी वेबसाइट पढ़ने में तकलीफ होती है। ऐसेमें आप कितना भी अच्छा content लिखो, backlink बनाओ, उसका कोईफायदा नहीं होगा। क्यूंकि आपने जो कुछ लिखा है वो search engine को समझ नहीं आयेगा तो वो index कैसे करेगा ? इसलिए on page और off page के साथ साथ tehcnical SEO भी उतनाही महत्वपूर्ण है। 

Technical SEO में ऐसेकुछ factors है जिनपे आप थोड़ा काम करते है तो crawlers का काम आसान हो जायेगा और आपकी वेबसाइटभी जल्दीसे index हो जाएगी।

1. Mobile friendly website 


एक वेबसाइट जितनी अच्छी computer पे दिखती है उतनीहीअच्छी mobile पे दिखनी चाहिए। मतलब उसका जो भी content होगा वो mobile screen size के हिसाबसे adjust होना चाहिए। आज दुनियामें ज्यादातर लोग internet का इस्तेमाल mobile पे करते है, मतलब ज्यादातर visiters mobile के जरिये आते है। ऐसेमें आपकी वेबसाइट mobile friendly होनी चाहिए  


2. Enable SSL


SSL का मतलब होता है Secure Sockets Layer. वेबसाइट के address में जो https होता है इसमें S का मतलब होता है Secure . जिन वेबसाइट का SSL enable होता है उनकेaddress की शुरुवात में https होता है। इसका मतलब ऐसी वेबसाइट secure होती है। Google ने भी इसको प्रोत्साहित किया था। Google की नजर में ऐसी वेबसाइट का मूल्य ज्यादा है। SSL enable करनेसे लोगों का ट्रस्ट भी बढ़ता है इसलिए इसे जरूर आजमायें।


3. Fix broken links 


Dead links/ Broken links ऐसी links होती है जो किसी कारन remove की जा चुकी होती है या उसे move किया जा चूका होता है। ऐसा करने से उस link पे कोई click करता है तो उसे error आता है जिससे visiters पे bad impression पड़ता है। आपको ऐसी links ढूंढ के उन्हें fix करना जरुरी होता है।

Local SEO

Local SEO in Hindi

अगर आप स्मार्टफोन इस्तेमाल करते है तो आपने कभी ना कभी तो ATM near me, Theatre near me इ. ऐसे search किया ही होगा। इसे lacal searches कहां जाता है। आज १० में से ७-८ searches ऐसेही Local places ढूंढने के लिए किये जाता है। ऐसे searches में लोगों का इरादा होता की उन्हें एक location दिखाया जाये। अगर आपका local business है और आप उसे digitaly promote कर रहे है तो आपको local SEO करने की जरुरत पड़ेगी।

1. Google my business

अपना business local searches में रैंकिंग करने के लिए Google my business सबसे बढ़िया platform है। Google की तरफ से ये एक free service है जहाँ पे हम अपने वेबसाइट की फ्री में listing कर सकते है। Google my business पे account बना के हम यहाँ पे business की पूरी जाकारी दे सकते है।


2. Citation

local SEO ज्यादा ध्यान citation पे दिया जाता है। Citation का मतलब होता है आप के business का online listing। आप जब भी किसी business याफिर store के बारे में search करते है तो Google हमें कुछ Name, Address and Phone number दिखाता है। इसे NAP भी कहां जाता है। ऐसी informations को ही citations कहां जाता हैं। Citation एक प्रकार की listing होती है जहाँ पे हमारे business की पूरी जानकारी होती है। आप जितना ज्यादा citation बनाएंगे, उतना ज्यादा आपको फायदा होगा।


3. Schema markup

ये एक code होता है जिसकी मददसे search engine अपने business का नाम, पता, फोन नंबर इ. जानकारी आसानीसे ढूंढ सकता है। Schema markup कोड दे के हम search engine का काम आसान करते है इसलिए search engine भी आपको जल्दीसे ranking देगा।

Black hat SEO

Black hat SEO in Hindi

Black hat SEO ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से बहुत ही जल्द अपना website SERP में rank कर सकते है। लेकिन ये तकनीक Google की नजर में किसी अपराध से कम नहीं है। मतलब अगर आप इस तकनीकका इस्तेमाल करते है तो पहले आप rank तो करेंगे लेकिन कुछ दिनों बाद जब Google को पता चलेगा तो आप की website ban हो जाएगी। इसलिए इन तकनीक का इस्तेमाल हमें नहीं करना चाहिए। Black hat SEO में भी बहुत सारी methods है।

1. Keyword stuffing

इसमें main keyword को बिना वजह target किया जाता है। ये सबसे लोकप्रिय तकनीक है। शुरुवात की दौर में इस तकनीक का इस्तेमाल करके website rank की जाती थी लेकिन algorithm upadte होने के कारन ऐसे वेबसाइट का rank कम होता गया। आज search engine crawlers बहुत स्मार्ट हो गए है, उन्हें आसानी से पता चल जाता है की आपने keyword stuffing का इस्तेमाल किया है।

2. Cloaking

इस तकनीक में एक webpage का content search engine crawlers को अलग और visiters को अलग दिखाया जाता है। मतलब पेज एक ही होता है लेकिन दोनों को अलग अलग content दिखाया जाता है। यहाँ पे जो search engine crawlers को content दिखाया जाता है वो SEO केहिसाब से perfect होता है क्यूंकि की वो उनके लिए ही बनाया जाता है। लेकिनvisiters को वो content दिखाई नहीं देता , क्यूंकि उनके लिए अलग content दिखाया जाता है। ज्यादातर adult वेबसाइट इस तकनीक का इस्तेमाल करती है।

3. Clickbait

clickbait एक content का छोटासा हिस्सा होता है जिसमें आकर्षक images याफिर headings का इस्तेमाल किया जाता है जिससे लोग वो content पढ़ने पर मजबूर हो। clickbait का ज्यादातर इस्तेमाल Youtube के thumbnail निर्माण करने में किया जाता है। आपने ऐसे headline जरूर पढ़े होंगे ३० दिन में मोटापा कम कीजिये १ दिन में ५०,००० कैसे कमाए इ.ये सब clickbait का उदाहरण है। clickbait का इस्तेमाल करके आप visiters तो बढ़ा सकते है लेकिन ये एक bad impression है जिससे लोग आपके website पे फिरसे नहीं आएंगे।

4. Hidden text

content लिखते समय किसी keyword को unnatural तरीकेसे target किया जाता है और उसे background जैसा ही color दीया जाता है। ऐसा करनेसे user experiene भी ख़राब नहीं होता और keyword भी target हो जाता है। दूसरे एक तरीके में text का size १ रखा जाता है जो दिखाई भी नहीं देता। कभी कभी image के पीछे भी text लिखा जाता है जिसे visiters पढ़ नहीं सकते लेकिन search engine पढ़ सकते है।

5. Article spinning

article spinning में किसी article को online tool की मदद से rewrite किया जाता है ताकि वो article plagiarism free हो। लेकिन article जब spin होता है तो वो पढ़ने में बहुत दिक्कत आती है। ऐसा करने से user experience ख़राब हो जाता है। अगर आप user experience ख़राब करते है तो गूगल आपको कभी rank नहीं करेगा।

Grey hat SEO

Grey hat SEO in Hindi

Grey hat SEO तकनीक white hat और black hat तकनीक के बीच में आती है। White hat SEO में google के guideline को strictly follow किया जाता है। इनमें ज्यादातर on page SEO ही part आता है। Grey hat तकनीक का इस्तेमाल अगर सही तरीकेसे किया जाता है तो risk थोड़ा कम रहता है। ये तकनीक इस्तेमाल करनेके लिए आपको इसका अच्छा knowledge होना बहुत जरुरी है। इसमें कुछ main methods है जैसे की ,

1. Update old content

इसमें अपने पुराने post को rewrite किया जाता है। मान लीजिए आपने १ साल पहले पोस्ट लिखि थी। अब जाहिर है की उसमें बहुत सारे updates आये होंगे जिसे आपको अपने लिखे हुए post में update करना जरुरी है। यदि आप post update करते है तो crawlers को थोड़ा fresh content मिल जाता है। इसलिए आप भी अपनी पोस्ट थोड़ी बहुत update कर सकते है।

2. Buying expired domains

इस method में expire domain खरीदे जाते है। ऐसे domains पे पहलेसेही traffic होता है लेकिन किसी कारण वो डोमेन renew नहीं किया जाता और expire हो जाता है। अगर आप ऐसे domain खरीद लेते है तो आपको already traffic मिल जाता है। आप सिर्फ content डालिये बाकि सारा काम पहलेसे किया हुआ होता है।

3. Automatic article generator

इस method में किसी online tool कि मदद से articles लिखवाये जाते है। Automatic article generator एक ऐसा tool होता है जिसमें सिर्फ topic का नाम डालनेसे पूरा article तैयार मिल जाता है। लेकिन ऐसे article में user पे ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता। अगर आप इसका इस्तेमाल कर रहे है तो article generate होने के बाद उसे थोड़ा एडिट जरूर कीजिये। 

ये कुछ SEO तकनीक थी जिसकी मदद से हम अपनी वेबसाइट search engine में rank करवा सकते है। इनमें On page SEO, Off page SEO, और Technical SEO ये सबसे महत्वपूर्ण है। ज्यादातर लोग on page और off page पे ही ध्यान देते है। उनको technical SEO के बारें में ज्यादा जानकारी नहीं होती इसलिए वो उसे नजर अंदाज कर देते है। लेकिन technical SEO तकनीक  उतनीही महत्वपूर्ण है जितनी  On page और Off page SEO है।  इसके अलावा black hat SEO और grey hat SEO जैसी तकनीक भी है लेकिन इसका इस्तेमाल हमें नहीं करना चाहिए। ये तकनीक इस्तेमाल करने के लिए हमें search engine guideline के खिलाफ जाना पड़ता है। इन्ह तकनीकों का इस्तेमाल करके वेबसाइट को रैंक तो मिलती है लेकिन कुछ समय तक ही। Search engine को जब ये पता चल जाता है तो ऐसे वेबसाइट की ranking काम हो जाती है। इसलिए आप इस तकनीक से दूर रहिये। 

Summary
SEO in Hindi
Article Name
SEO in Hindi
Description
SEO मतलब है Search Engine Optimization । SEO एक तकनीक है जिसकी मदद से हम अपने वेबसाइट को search engine result page में पहले स्थान पर ला सकते है।
Author
Publisher Name
SEOinhindi
Publisher Logo
5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *