E-commerce SEO in Hindi

E-commerce SEO in Hindi

E-commerce seo in hindi

किसी ऑनलाइन स्टोअरके प्रोडक्ट पेज को organic तरीकेसे SERP में रैंक करने की प्रक्रिया को Ecommerce SEO कहां जाता है। 

जब हम कोई प्रोडक्ट ऑनलाइन सर्च करते है तो हमारे सामने पहले कुछ रिजल्ट्स आते है वो पेड़ होते है मतलब उनको दिखाने के लिए सर्च इंजिन को कुछ पैसे देने पड़ते है।

SERP amazon products

यहाँ पे ज्यादातर रिजल्ट्स जो होते है वो Amazon, Flipkart जैसे high authority वेबसाइट के होते है। ये बड़ी बड़ी कंपनियां पुरे साल तक ऐसे पेड़ एडवर्टाइज चला सकते है क्यूंकि इनके पास बहुत सारा पैसा होता है।

लेकिन पेड़ सर्चेस के निचे जो आर्गेनिक रिजल्ट आते है वो सिर्फ SEO की मददसे ही मुमकिन है। अगर आप एक E-commerce वेबसाइट चलाते है और आपका मार्केटिंग बजेट भी उतना नहीं की आप पुरे साल एडवर्टाइज चला सके तो ये पोस्ट आपके लिए है।

अगर आपकी वेबसाइट पहले पेज नहीं आ रही है तो आपकी कमाई भी कम होती होंगी , क्यूंकि सिर्फ फेसबुक और इंस्टाग्राम पे शेयर करके ज्यादा प्रॉफिट तो होने नहीं वाला है। 

इस पोस्ट में हमने कुछ ऐसे कॉमन फैक्टर्स निकाले है जिसपे काम करने से आप भी पहले पेज पर rank कर सकते है। यहाँ पे हम जानेंगे कैसे ये बड़ी बड़ी कम्पनियाँ ऑर्गॅनिकलीभी पहले पेज में rank कर रही है।

Backlink, Page authority ये फैक्टर्स तो है ही लेकिन और भी बहुत सारे छोटे मोटे फैक्टर्स है जिनको आप सीरियस लेते है तो आपको बहुत फायदा होगा। चलिए देखते है-

1. Keywords selection

 हम यहाँपे कीवर्ड रिसर्चकी बात नहीं कर रहे है, क्यूंकि कीवर्ड रिसर्च तो महत्वपूर्ण है ही उसके साथ साथ आप पुरे title में या description में कौनसे कीवर्डका इस्तेमाल करते है ये भी महत्वपूर्ण है।

बड़ी बड़ी e commerce कम्पनियां जो होती है वो लोगोंकी मानसिकता को समझते है। उनको पता होता है की कौन कौन से ऐसे शब्द है जो लोगों के इमोशन के साथ कनेक्ट है। ऐसे शब्दों के ऊपर लोगों का ध्यान जल्दी जाता है।

निचे दिए गए शब्दोंके ऊपर ध्यान दीजिये।

Lowest price, Price drop alert, Up to 80% discount, Exclusively on, Hurry up, limited stock, free shipping, etc.

यहाँपे आप देख सकते है की ये जो कीवर्ड्स है लोगोंको लिंक के ऊपर क्लिक करनेपर मजबूर करते है। ऐसे कीवर्ड्स को transactional keyword बोला जाता है। ऐसे कीवर्ड्स आपको conversion में मदद करते है। आपको भी ऐसे कीवर्ड्स का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।

2. Lengthy product description

product description of americal tourister bag

Product description का मतलब होता है किसी product के बारेंमें आपने वेबसाइट पे क्या क्या जानकारी दे रखी है। यहाँ पे product description जो आप लिख रहे है वो पूरा detail में होना चाहिए।

आप उसके बारें में जितना लिख सकते है लिख दीजिये। लगभग २०० शब्दों तक आपका product description होना चाहिए। आपके हर एक कैटेगरी में १० में से १-२ product का description लम्बा होना ही चाहिए।

हम सबका description इतना लम्बा नहीं लिख सकते फिर भी १-२ के लिए कोशिश जरूर कीजिए। इसके फायदे २ होते है। एक तो सर्च इंजिन के crawlers को अच्छी तरह पता चलता है की ये product क्या है और दूसरा फायदा ये है की visitors को product के बारें में अच्छी तरहसे जानकारी मिल जाती है।

3. Website structure

ये सबसे महत्वपूर्ण है। रिसर्च के मुताबिक किसीभी प्रोडक्ट के Buy Now बटन तक पोहचने के लिए तीन या तीन से कम क्लिक लगने चाहिए।

मतलब मान लीजिये आप किसी e commerce पे शॉपिंग कर रहे है। वहाँ पे आपको कुछ प्रोडक्ट खरीदने है। ऐसेमें आप उसे search box में टाइप करते है तो आपके सामने कुछ लिस्ट आ जाती है। आप किसी प्रोडक्टपे क्लिक करते है। अब आप उस प्रोडक्ट के Buy Now तक आ जाते है। ये सारी प्रक्रिया सिर्फ तीन क्लिकमें होनी चाहिए। आप कौनसी भी लोकप्रिय e commerce पे विजिट करते हैं तो आपको ये बात समझ आएगी।

इससे लोगों का समय बच जाता है। अगर आपके e commerce store में किसी प्रोडक्ट तक पहुँचने के लिए ५ – ६ क्लिक करने पड़ते है तो ये एक bad impression है। इसलिए वेबसाइट के structure पे ज्यादा ध्यान दीजिये।

प्रोडक्ट की category के हिसाबसे अच्छी तरह से दिखाइए। Hower effect का इस्तेमाल कीजिये ताकि लोगोंको बिना क्लिक कियेभी उस प्रोडक्ट के करीब पहुँच जाए।

4. Title and meta description

आप जितने भी प्रोडक्ट ऑनलाइन लिस्टिंग कर रहे हो उनके Title and meta description पे ध्यान दीजिये। यहाँ पे transactional keyword का इस्तेमाल जरूर कीजिये। ये आपके ऑनलाइन स्टोअर का 1st impression होता है जब आप पहले पेज पे rank करते है।

यहाँ पे आप जो कुछ लिख रहे है उसे देखकर ही लोग ये तय करते है की उस लिंक पे क्लीक करना चाहिए या नहीं।

e.g जब हम running shoes for men सर्च किया तो हमारे सामने ये रिजल्ट आये।

SERP ads and organic results

पहले रिजल्ट में आप देख सकते है की Amazon ने Title और meta description में कितने कीवर्ड्स इस्तेमाल किये है। कितने अच्छे तरीकेसे Title  में upto 50% off on men shoes ऐसे कीवर्ड्स का इस्तेमाल किया है। दरअसल लोगों का ध्यान text से ज्यादा numbers पे जाता है इसलिए title में numbers का इस्तेमाल जरूर करे । 

Meta description में देखते है तो Pay COD. Free Shipping*. Low Prices. Top Brands. Huge Selection. Easy Returns ऐसे कीवर्ड्स विज़िटर्स को आकर्षित करते है। 

वही दूसरे रिजल्ट को देखके पता चलता है की Myntra ने कॉमन शब्दों का इस्तेमाल किया है। Title and meta description में ऐसे कोई powerful keywords नहीं है। आपको ऐसे Title and meta description नहीं लिखना है। इसलिए Title और meta description में कीवर्ड लिखते समय ऐसे transactional, powerful keywords पे ध्यान दीजिये।

Coschedule के headline analyzer जैसे टूल का इस्तेमाल करके आप Title चेक कर सकते है। इस वेबसाइट पर कुछ keywords की लिस्ट है उसे आप डाउनलोड करके उनमें जो keywords दिए है उनका इस्तेमाल जरूर करें।यहाँ पे उसकी लिंक है। चाहे तो आप डाउनलोड कर सकते है।

List of powerful keywords


5. Short URLs

आपके के स्टोअर पे जितने भी प्रोडक्ट है उनके पेज का URL कम से कम शब्दों का होना चाहिए। Example की तौर पर हम यहाँ Flipkart और Myntra के URLs को देखते है।

example of bad URL

https://www.flipkart.com/nike-sneakers-women/itm1545fecbc17fc?pid=SHOFHHXX6V UQXRQGlid=LSTSHOFHHXX6VUQXRQGC00TUJ&marketplace=FLIPKARTsrno=s_1_1&otracker=searchotracker1=searchfm=SEARCHiid=en_rgpQfo6v%2BK%2BH2VJ0SI5cCegVFM9YyMRX1%2FdCMgFPwRo8KP34k808YDVVXiiCrSFEME2GYPyubmjw6ZNSB4nnDQ%3D%3D&ppt=sp&ppn=sp&ssid=nxd42bcr680000001574396338291&qH=2d7d996 6bc4a50f

URL example

https://www.myntra.com/casual-shoes/nike/nike-men-white-solid-court-royale-sneakers/1800829/buy

यहाँ पे आप देख सकते है Flipkart और Myntra का URL

पहले URL को देखके ज्यादा कुछ समझ नहीं आता की एक्चुअल में क्या प्रोडक्ट है और URL इतना लम्बा है की सर्च इंजिन की नजर से well optimized नहीं है। वही Myntra के URL को देखते है तो पता चलता है की वो प्रोडक्ट क्या है। उनका URL भी well optimized है।

आपको भी ऐसे ही छोटे छोटे URLs लिखने है। जितने कम शब्दों में लिख सकते है उतने कम लिखिए। इसे आप नजरअंदाज मत करे। अगर आपको रैंक करना है तो इन छोटे छोटे factors के ऊपर ध्यान जरूर देना पड़ेगा।

6. Website load time

अगर कोई e-commerce वेबसाइट हररोज $१००,००० कमा रही है तो १ सेकंड page load time के विलंबसे उनको हर साल $२.५ million का घाटा होता है। – Neil Patel

आप अंदाजा लगा सकते है की page load time आपके कमाइपे कितना असर डालता है।

Slow load होने वाली वेबसाइट किसी को पसंद नहीं है। ३ सेकंड से ज्यादा समय लेने वाली वेबसाइटको लोग बंद करके दूसरे वेबसाइट पर चले जाते है।

अगर आपका बाउंस रेट बढ़ रहा है तो इसका main reason यही हो सकता है। आप रैंक करके भी कमाई नहीं कर रहे है तो आपको इस के ऊपर ध्यान देना ही होगा।

7. Image  optimization

E commerce वेबसाइट पे images का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है। ऐसेमें images अपलोड करते समय title, description, alt text देना बहुत जरुरी है। 

इससे image search result में आपके वेबसाइट की image आने की संभावना होती है। अगर ऐसा होता है तो वहां से भी आपको ट्रैफिक मिल जाता है। Image की quality पे भी आप ध्यान दीजिये।

8. Breadcrumbs

Breadcrumb एक प्रकार का navigation होता है जिसे हमें पता चलता ही की किसी वेबसाइट पर हम कहाँपे है। ये हमें बहुत सारे वेबसाइट पर दिखाई देता है जो पेज के ऊपरी हिस्सेमें Address bar के ठीक निचे होता है।

bredcrumb of myntra website

Breadcrumb user experience के लिए बहुत अच्छा फैक्टर है जिससे विज़िटर्स को काफी मदद होती है।

अगर आप user experience सुधार रहे हो तो एक प्रकारसे आप लोगोंको के साथ साथ सर्च इंजिन को प्रभावित कर रहे हो। इसलिए breadcrumb का इस्तेमाल जरूर कीजिये।

9. Don’t forget about On-page, Off-page and Technical SEO

ऊपर दिए गए सब factors आपके e-commerce वेबसाइट के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। इसके साथ साथ बाकि जो optimization का हिस्सा है उनपे भी आपको ध्यान देना पड़ेगा। जैसे की responsive design, SSL certificate, backlink building, internal linking, redirections etc.

Summary
E-commerce SEO in Hindi
Article Name
E-commerce SEO in Hindi
Description
किसी ऑनलाइन स्टोअरके प्रोडक्ट पेज को organic तरीकेसे SERP में रैंक करने की प्रक्रिया को Ecommerce SEO कहां जाता है।
Author
Publisher Name
seoinhindi.net
Publisher Logo

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *